Free online aunty for sex chat Pinoy teen sexchatrooms

मैं तो दीवार के तरफ था और उतरने के लिए चाची के उपर से लाँघना पड़ता था.

लालटेन भी बहुत धीमी जल रही थी और अंधेरे में कुछ साफ दिख नहीं रहा था.

मैंने सोचा कि अब असली माल टटोला जाए और अपना हाथ उठा कर चाचीजी की जाँघ पर रख दिया.

मेरा हाथ चाची की साडी पर पड़ा पर मुझे मालूम था की थोडा नीचे हाथ सरकाउं तो जाँघ खुली मिलेगी.

अंदाज़ से मैं उठा और चाचीजी को लाँघने के लिए उनके पांव पर हाथ रखा. चाची जी की साडी उनके घुटनों के उपर सरक गयी थी और मेरा हाथ उनके नंगी जांघों पर पड़ा था.

चाचीजी को कोई आहट नहीं हुई और मैं झट से उठकर रूम के बाहर पेशाब करने चला गया.

मैंने धीरे से अपनी उंगली मोडी और उनकी जांघों के बीच में पैंटी को थोडा खीच कर एक उंगली अंदर डाल दी.

सिर्फ़ ब्लाउस के उपर से चुची दबाकर मज़ा नहीं आ रहा था.

मुंबई के बस और ट्रेन में ना जाने कितने ही लड़कियों की चुची दबाई है मैने.

मुझे ब्लाउस के उपर से उनकी ब्रा फील हो रही थी पर निपल कुछ मालूम नहीं पड़ रहा था.

चाचीजी अब भी बेख़बर सो रही थी और मेरा लंड एकदम फड़फड़ा रहा था.

Search for Free online aunty for sex chat:

Free online aunty for sex chat-47Free online aunty for sex chat-22Free online aunty for sex chat-20

चाचा की शादी अभी २ बरस पहले ही हुई थी और शादी के कुछ ही महीने बाद से वो मुंबई में काम करने लगे थे. इधर बीमारी के वजह से वो तीन महीने से गाँव नहीं जा सके थे.

Leave a Reply

Your email address will not be published. Required fields are marked *

One thought on “Free online aunty for sex chat”